WE DEAL IN ONLY RAJASTHAN HOUSING BOARD & JDA APPROVED PROPERTIES....

Having a multinational base proves to be an added advantage in serving the NRI clients effectively and efficiently. Riddhi Siddhi Chamber is well equipped with huge database, reliable expertise, comprehensive and authentic research analysis reports, advisory and consultancy services and updated latest information.

Transparency in dealings is ensured through a very systematic and open procedure. The process starts from keeping proper formatted buyer/seller information which is passed on to the sales team. The team then follows according to the availability in our database. Having a qualitative rather than quantitative database helps us to deliver better and customized services to the clients.

Keeping all the information and transactions transparent , we endeavor to maintain a difference between the corporate and the open market.

The plethora of services offered by Riddhi Siddhi Chamber not only makes it unique but also proves our capability in dealing with different clients both nationally and internationally with the best results.

We provide sale & services of Rajasthan Housing Board, Societies, JDA Approved Land & Plots. Below is the list of Jaipur Development Authority (JDA)'s Approved Schemes.

LIST OF THE PROPERTIES FOR SALE...

CODE DATE TYPE BEDROOM BATHROOM AREA LOCATION RATE
S0103-06-11RESIDENTIAL33300SQftMALVIYA NAGAR4000/SQFT
S0205-06-11Residential001000 SqftMalviya Nagar35000/Sqft
13-01-13Residential Land1800 Sq. FtJagatura30,00,000



Rajasthan Housing Board Approved Schemes:-

मण्‍डल की महत्‍वपूर्ण योजनाएँ -
     
इंदिरा गांधी नगर योजना, जगतपुरा, जयपुर

 जयपुर शहर की आवास समस्‍या के निराकरण हेतु मण्‍डल द्वारा वर्ष 2002 में इंदिरा गांधी नगर, (जगतपुरा) आवासीय योजना प्रारम्‍भ की गई थी। इस योजना का क्षेत्रफल 1750 बीघा है। सम्‍पूर्ण योजना क्षेत्र को 14 सैक्‍टरों में विभाजित किया गया है। प्रत्‍येक सैक्‍टर में जन साधारण की आवश्‍यकता के अनुरूप समस्‍त सुविधाएं उपलब्‍ध होंगी। यह आवासीय योजना, जगतपुरा रेल्‍वे स्‍टेशन व गोनेर रोड के मध्‍य एवं जयपुर- दिल्‍ली रेलवे लाईन के समानान्‍तर उत्‍तर की ओर स्थित है। इस योजना में लगभग 8000 आवास निर्मित किये जाने प्रस्‍तावित है। इस योजना हेतु 5674 आवेदकों ने पंजीकरण करवाया था। जिसमें से 4837 आवासों का निर्माण कार्य माह दिसम्‍बर,2010 तक प्रारम्‍भ कर 4050 आवासों को पूर्ण कर 2985 आवासों का आंवटन किया जा चुका है। 2804 आवासों का कब्‍जा भी दिया जा चुका है।

द्वारकापुरी बहुमंजिली आवासीय योजना (जयपुर, जोधपुर उदयपुर एवं कोटा)

प्रदेश के शहरी क्षेत्रों में अनवरत बढ रही आवासीय मांग के विपरीत भूमि की उपलब्‍धता में आ रही निरन्‍तर कमी तथा भू-अर्जन में व्‍याप्‍त कठिनाईयों के बीच सामंजस्‍य स्‍थापित करके शहरी क्षेत्र के निर्धन परिवारों हेतु आवास मुहैया करवाने के अपने लक्ष्‍य की दिशा में राजस्‍थान आवासन मण्‍डल द्वारा प्रतापनगर, सांगानेर जयपुर के सैक्‍टर 26 में द्वारकापुरी योजना 8 दिसम्‍बर 2005 को प्रारम्‍भ की गई। इस योजना के प्रथम चरण में 2976 फ्लैट निर्मित किये जा रहे है। योजना मे निर्मित आवास, भूतल व सात मंजिल के है। निर्मित प्रत्‍येक आवास के सामने 6 फीट चौडा बरामदा होगा। भूकम्‍प रोधी एवं अग्निरोधी तकनीकी से निर्मित इन आवासों में एक बहुउद्देशीय कमरा, रसोई शौचालय एवं स्‍नानगृह का निर्माण प्रस्‍तावित है। आवास का भूतक पर निर्मित क्षेत्रफल 44.75 एवं दूसरे सभी तलों पर निर्मित क्षेत्रफल 33.44 वर्ग मीटर होगा। 31 दिसम्‍बर, 2010 तक 720 आवास पूर्ण कर आवंटित कर दिये गये है, जिसमें से 112 आवासों का कब्‍जा दिया जा चुका है। शेष आवास निर्माणधीन है।

द्वारकापुरी योजनान्‍तर्गत जोधपुर में कुडी भगतासनी योजना में 1032 फ्लेटस् का कार्य नियोजित था जिसमें से 532 फ्लेटस् का कार्य निर्माण पूर्ण आवंटित कर दिये गये है शेष का कार्य प्रगति पर है। कुन्‍हाडी, कोटा,शहर में 120 फ्लेटस् का कार्य नियोजित था जिसमें से 113 (जी+3) फ्लेटस् का निर्माण पूर्ण कर आवंटन किया जा चुका है। उदयपुर के सवीना द्वितीय में 192 बहुमंजिले आवासीय फ्लेटस् (जी+3) का कार्य पूर्ण कर दिया गया है जिसमें से 185 फ्लेटस् का आवंटन कर दिया गया है तथा 7 फ्लेटस् को नीलामी द्वारा बेचे जाने की कार्यवाही प्रक्रियाधीन है।

प्रताप नगर, सांगानेर (जयपुर) चालू योजनाएं

राज आंगन  अप्रवासी भारतीय/अप्रवासी राजस्‍थानियों के लिए एक विशिष्‍ट गृह योजना सैक्‍टर-24 में मण्‍डल द्वारा वर्ष 2000 में आरम्‍भ की गई थी जिसमें 303 विभिन्‍न श्रेणी के आवासों की टाउनशिप विकसित की जा रही है। यह योजना 57 हैक्‍टेयर्स में फैली हुई है। इस योजना के चारों तरफ 18 मीटर चौडी हरी घनी पट्टी वि‍कसित की जा रही है। वर्तमान में उक्‍त परियोजना की अनुमानित लागत 125.5 करोड रूपये है। 301 पंजीकरण के विरूद्ध 31 दिसम्‍बर, 2010 तक 292 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्‍भ कर 289 आवास पूर्ण किये जाकर 287 आवासों के आवंटियों को कब्‍जे दिये जा चुके है।

प्रताप एन्‍क्‍लेव'योजना : राज आंगन परियोजना में राज्‍य के स्‍थानीय आवेदकों के रूझान को देखते हुए उच्‍च आय वर्ग के आवेदकों के लिए स्‍ववित्‍त पोषित योजना के अन्‍तर्गत 240 विशिष्‍ठ मापदण्‍डों के आधुनिक आवासों की एक अन्‍य योजना'तक्षक'का शुभारम्‍भ सेक्‍टर-25 में दिनांक 16 फरवरी,2005 को किया गया था, जिसका नाम परिवर्तित का 'प्रताप एन्‍क्‍लेब'योजनाकर दिया गया है। इस योजना में कुल 216 आवेदकों द्वारा पंजीकरण करवाया गया है। इनमें से प्रथम चरण में 130 आवासों का निर्माण कार्य पूर्णकर 128 आवासों को कब्‍जा आवंटियों को सौंपा जा चुका है। द्वितीय चरण में 86 आवासों का निर्माण प्रारम्‍भ कर दिया गया है तथा इनका आवंटन कर कब्‍जे की कार्यवाही की जा रही है।

 प्रताप अपार्टमेंट :  समूह बहुमंजिली आवासीय योजना (St+10) सांगानेर में लम्बित पंजीकृत आवेदकों हेतु सेक्‍टर-29 में स्‍ववित्‍त पोषित योजनान्‍तर्गत 1755 आवेदकों हेतु अल्‍प आय वर्ग 1080, मध्‍यम आय वर्ग'अ'के 300,मध्‍यम आय वर्ग'ब'के 220 एवं उच्‍च आय वर्ग के 208 आवास का निर्माण किया जाना प्रस्‍तावित है। वर्तमान में योजना के प्रथम चरण में अल्‍प आय वर्ग के 660, मध्‍यम आय वर्ग''अ''के 300, मध्‍यम आय वर्ग''ब''के 110 एवं उच्‍च आय वर्ग के 100 फ्लेट्स का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इसी योजना में अल्‍प आय वर्ग के 63 व मध्‍यम आय वर्ग ''अ'' 144 आवेदन वीरांगना विहार योजना के अन्‍तर्गत प्राप्‍त हुये थे, जिन्‍हे पूर्ण कर कब्‍जें की कार्यवाही प्रगति पर है।

मेवाड अपार्टमेंट:  समूह बहुमंजिली आवासीय योजना (G+9)जयपुर के प्रतापनगर में प्रतीक्षारत आवेदकों तथा नये आवेदकों हेतु स्‍ववित्‍त पोषित योजनान्‍तर्गत उच्‍च आय वर्ग के 352 फ्लेट्स का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इनमें से 331 आवासों को आवंटित कर कब्‍जे की कार्यवाही प्रगति पर है।

कृष्‍णा अपार्टमेंट:  सैक्‍टर-28 में आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के लिए 1024 (जी+3) के आवास नियोजित किये गये है। इनमें से 768 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्‍भ कर दिया गया है।

मानसरोवर, जयपुर में चालू योजनाएं :- 

जयपुर शहर में आवास हेतु पर्ष 1979 से प्रतीक्षारत आवेदकों को मानसरोवर योजना में आवास मुहैया कराने हेतु वी.टी. रोड पर (S+9) उच्‍च आय वर्ग के 36 फ्लेटस का निर्माण कार्य प्रगति  पर है, जिसमें से 35 फ्लेट्स को स्‍ववित्‍त पोषित योजनान्‍तर्गत आवंटित किया जा चुका है भृगु पथ पर मध्‍यम आय वर्ग (ब) के 200 फ्लेटस् का निर्माण स्‍ववित्‍त पोषित योजनान्‍तर्गत कार्य प्रगति पर है। इसमें से 110 फ्लेटों को आवंटन पंजीकृत आवेदकों को देखरेख योजना के अन्‍तर्गत कर दिया गया है, 30 फ्लेटों की खुली ब्रिकी योजना के तहत आवंटन किया जाना है, शेष 60 फ्लेटों का निर्माण मण्‍डल के कोषों से किया जा रहा है।

रामकृष्‍ण अर्पामेन्‍ट:- शिप्रा पथ, मानसरोवर में मध्‍यम आय वर्ग (ब) 126 (St+9) के फ्लेट्स कर निर्माण कार्य प्रगति पर है, जिसमें से 72 फ्लेट स्‍ववित्‍त पोषित योजना अन्‍तर्गत आवंटित कर दिये गये है, शेष 54 फ्लेटों का आवंटन जनवरी, 2011 में किया जाना प्रस्‍‍तावित है।

कावेरी अपार्टमेंट:  कावेरी पथ, मानसरोवर में उच्‍च आय वर्ग के पर 24 फ्लेट्स (St+4) का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इनका आवंटन जनवरी, 2011 में किया जाना प्रस्‍तावित है।

चौपासनी, जोधपुर में चालू योजनाएं

मारवाड अपार्टमेंट:  सेक्‍टर-14 में मध्‍यम आय वर्ग'ब'(St+9) के 576 फ्लेट्स नियोजित किये गये है, इस योजनान्‍तर्गत के प्रथम चरण में 144 फ्लेट्स का निर्माण स्‍ववित्‍त पोषित योजनान्‍तर्गत प्रारम्‍भ कर दिया गया है जो प्रगति पर है।

उधान अपार्टमेंन्‍ट :- चौपासनी योजना अशोक उधान से लगते हुए मध्‍यम आय वर्ग'ब'के 112 फ्लेट्स (G+3) MIG Bफ्लेट्स का निर्माण कार्य प्रगति पर है, जिनकों फरवरी, 2011 तक आवंटित कर दिया जावेगा।

भिवाडी, (अलवर) में चालू योजनाएं

अरावली अपार्टमेंट:-  इसी योजना में स्‍ववित्‍त पोषित योजनान्‍तर्गत मध्‍यम आय वर्ग'अ (St+8) के 128, मध्‍यम आय वर्ग'ब'(St+8)के 96 तथा उच्‍च आय वर्ग के (St+8) के 64 फ्लेटस् नियोजित है जिसमें से मध्‍यम आय वर्ग 'अ के 32, मध्‍यम आय वर्ग 'ब' के 32 एवं उच्‍च आय वर्ग के 32 फ्लेटस् का निर्माण किया जा रहा था जिसमें से 32 मध्‍यम आय वर्ग'अ'व 32मध्‍यम आय वर्ग'ब' के आवासों का आवंटन किया जा चुका है तथा 32 फ्लेटस् उच्‍च आय वर्ग का निर्माण प्रगति पर है।  

उदयपुर :-
वर्ष 2009-10 में उदयपुर शहर की दक्षिण विस्‍तार योजना के लिए विशिष्‍ठ पंजीकरण योजना के तहत आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 120,अल्‍प आय वर्ग के 100,मध्‍यम आय वर्ग''अ''के 100 एवं मध्‍यम आय वर्ग''ब''के 80 कुल 400 नवीन आवेदक पंजीकृत किये गये, जिनमें से आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 120 एवं अल्‍प आय वर्ग के 100 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्‍भ किया गया।


If You Want To Purchase Property, Please Fill Form Below...

Your Name: *
E-mail Address: *
Home Phone: *
Business Phone:
Mobile Number:
Street Address:
City:
State:
Zip Code:
Do you have a preferred Location?
Do you currently own or rent?
Own
Rent
Other
What is your time frame for moving?
How many bedrooms do you need?
1
2
3
4
5+
How many bathrooms do you need?
1
1 1/2
2
2 1/2
3
Do you require covered parking?
Yes
No
If so, what type?
Are you looking for any special features in a new home?
What price are you considering?
Have you been approved for a mortgage?
Yes
No
Do you need to sell a home before you buy?
Yes
No
Any other comments regarding your home search?

* Required

PROPERTY FOR SELL

ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1ad1